दस्तावेजों का डिजिटलीकरण : mParivahan और DigiLocker

Order your Free FASTag Today!

Order Now

भारत में सड़क दुर्घटना के मामलों को कम करने के लिए, परिवहन मंत्रालय ने 1 सितंबर, 2019 से नए मोटर वाहन अधिनियम के लागू होने के बाद सड़क नियम उल्लंघन के लिए जुर्माना को बढ़ा दिया है।

मोटर वाहन अधिनियम में हुए नए बदलाव के तहत ड्राइवरों को चालान के समय ऑनलाइन दस्तावेज़ दिखाने की अनुमति दी गई है। आसान शब्दों में कहें तो, मोटर चालक अब RC और DL जैसे दस्तावेजों को मोबाइल में रख सकते हैं और चेकिंग के समय ट्रैफिक पुलिस को फ़ोन में ही दिखा सकते हैं। 

हालाँकि, इसमें भी एक नियम है इन दस्तावेजों को तभी कानूनी माना जाएगा जब इसे mParivahan और DigiLocker एप में रखा जाएगा। 

mParivahan: RC, DL, फिटनेस, बीमा और परमिट वैलिडिटी की जानकारी mParivahan ऐप पर वास्तविक समय पर उपलब्ध होती है। आपको केवल डीएल या वाहन का पंजीकरण नंबर दर्ज करना होगा और आधिकारिक दस्तावेज आपको दिखा दिए जाएंगे। mParivahan से वाहन के दस्तावेज़ प्राप्त करने के लिए कोई खाता की जरुरत नहीं है। 

DigiLocker: जैसा कि इसके नाम से ही स्पष्ट है, यह दस्तावेज को एक जगह जमा करके रखता है जिसे आप अन्य लोगों के साथ साझा भी कर सकते हैं। इस ऐप का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह सभी जरुरी दस्तावेजों को एक स्थान पर रखने के लिए एक लॉकर बना देता है। ऑफ़लाइन होने पर भी आप आसानी से जमा किये गए दस्तावेजों को देख सकते हैं। इन सब चीज़ों के लिए आपको बस इस पर एक अकाउंट बनाना होगा।

डिजीलॉकर और mParivahan दोनों ही ऐप एनआईसी के माध्यम से सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा डिज़ाइन किए गए हैं।

Have a question related to truck business? / क्या आपके पास कोई ट्रक व्यवसाय से संबंधित प्रश्न है?
Ask / प्रश्न पूछे

प्रातिक्रिया दे

Pay only Rs 3400 (60% Off) for GPS. Offer available for a limited time*

X