ट्रक व्यापार से जुड़े कई पहलुओं पर श्री सहज वाधवा के साथ की गई ऑनलाइन चर्चा

Order your Free FASTag Today!

Order Now

ट्रांसपोर्ट समुदाय को उद्योग में हो रही विभिन्न गतिविधियों के प्रति जागरुक रखने और व्यापार से जुड़े विभिन्न हिस्सेदारों के विचारों से अवगत कराने के हमारे प्रयास के तहत 31 मई 2020 को हमने फेसबुक लाइव पर एक ऑनलाइन चर्चा का आयोजन किया।

हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि इस चर्चा में श्री सहज वाधवा, जो कि तेजस लोजिस्टिक्स के युवा एवं प्रगतिशील मालिक हैं, के साथ बातचीत की गई। गौरतलब है कि 400 से ज्यादा ट्रकों के साथ तेजस लोजिस्टिक्स भारत की प्रमुख ट्रक ऑपरेटर कंपनियों में   में से एक है। कोविद महामारी में कैसे व्यापार को बेहतर तरीके से मैनेज किया जा सकता है और ट्रक ऑपरेशन्स को कैसे तकनीक की मदद से बेहतर बनाया जा सकता है इस बारे में कुछ महत्वपूर्ण विचार श्रीमान वाधवा ने दर्शकों के साथ सांझा किए।

श्रीमान वाधवा के साथ हमारी बातचीत के कुछ महत्वपूर्ण निष्कर्ष इस प्रकार हैं:

तेजस लोजिस्टिक्स और श्रीमान वाधवा के सफर पर एक नज़र

CA से अपने सफर की शुरुआत करने वाले श्रीमान वाधवा ने बेहद कम समय में तेजस लोजिस्टिक्स को 50 करोड़ से अधिक के टर्नओवर तक पहुंचा दिया है। लोजिस्टिक्स को तकनीक से मिलाने और ट्रक सारथियों को प्रेरित करने के उनके मिशन का उनकी कामयाबी में बड़ा हाथ रहा है।

ट्रक मालिक ड्राइवरों को कैसे बेहतर तरीके से मैनेज कर सकते हैं?

  • उन्होंने तेजस लोजिस्टिक्स का उदाहरण दिया जहां 98% ड्राइवर कम्पनी में टिके रहते हैं।
  • ड्राइवरों का आदर करने की ओर मुख्य रूप से ध्यान देना चाहिए।
  • तेजस लोजिस्टिक्स यह सुनिश्चित करता है कि ड्राइवरों को ‘सारथी’ कह कर पुकारा जाए।
  • एक ही बारी में 2000 किलोमीटर से ज्यादा यात्रा करने वाले और 2-3 महीनों तक घर से बाहर रहने वाले सारथियों के लिए सहानुभूति और सुरक्षा बेहद महत्वपूर्ण हैं। ट्रक मालिक का डिपो सारथी को घर के जैसा लगना चाहिए।
  • मूलभूत सुविधाएं जैसे आसरा व खाना, नाई की सुविधा, आने पर चाय इत्यादि का प्रबंध, वाशिंग मशीन आदि की सुविधाएं सारथियों को दी जानी चाहिए।
  • काम के आधार पर इंसेंटिव और बीमा भी महत्वपूर्ण है।
  • जिन सारथियों के बच्चे दसवीं और बारहवीं कक्षा में पास होते हैं उन्हें तेजस लोजोस्टिक्स लैपटॉप व रोजगार के अवसर प्रदान करती है। सारथी के परिवार को सुरक्षा देने के लिए यह एक बेहद अच्छी पहल है और अन्य ट्रक मालिक भी इसे आजमा सकते हैं।

ट्रक व्यापार में तकनीक किस तरह मदद कर सकती है?

  • हर एक ट्रक में GPS सुनिश्चित करने के साथ ही वेरिएबल (जो फिक्स नहीं है) खर्चे को कम करने और संसाधनों के बेहतर इस्तेमाल के लिए भी ट्रक मालिक ERP सिस्टम का प्रयोग कर सकते हैं।
  • श्रीमान वाधवा ने माना कि व्हील्सआई के साथ जुड़ने से तेजस लोजिस्टिक्स को पल पल लोकेशन ट्रैक करने, देरी होने पर पता चलने और ‘चक्का घूमना चाहिए’ के उनके उद्देश्य को पूरा करने में मदद मिली है।
  • तकनीक सारथियों की सुरक्षा और परफॉरमेंस पर नज़र रखने के काम आ सकती है:
    • GPS से नाईट ड्राइविंग पर नज़र रखी जा सकती है
    • रास्ते में बदलाव पर नज़र रखी जा सकती है
    • गैर-जिम्मेदार ड्राइविंग / ब्रेकिंग का भी पता लगाया जा सकता है
  • इन मानकों के आधार पर हर एक सारथी को एक ‘सारथी स्कोर’ दिया जा सकता है जिस से वह काम को ले कर उत्साहित बना रहे।

ट्रक उद्योग पर कोरोना वायरस के प्रभाव पर विचार: V के आकार की वापसी की उम्मीद

  • श्रीमान वाधवा के मुताबिक, लोकडाउन की वजह से उद्योगों की ओर से डिमांड और ट्रकों की सप्लाई दोनों में ही गिरावट देखी गई।
  • जहां रिपेयर की दुकानों, ढाबे आदि बंद होने से ट्रक सारथियों को बेहद मुश्किलों का सामना करना पड़ा, वहीं जरूरी सामान की पहचान को ले कर भी भ्रम बना रहा। कुछ जरूरी सामान (जैसे इंजेक्शन) के निर्माण के लिए गैरजरूरी सामान (जैसे पॉलीमर, प्लास्टिक) की जरूरत होती है – इस तरह के वाकयों से दिक्कतें और भी बढ़ गईं।
  • हालांकि अब मानसून के बाद जैसे ही कृषि पदार्थों की डिमांड वापिस आती है और ट्रक सारथी एवं कर्मचारी काम पर लौटते हैं, तो ऐसे में व्यापार में V के आकार में वापसी देखी जा सकती है।
  • लोकडाउन में ट्रक सारथियों के योगदान को देखते हुए, सरकार की ओर से उन्हें भी स्वास्थ्य कमर्चारियों, सफाई कर्मचारियों व पुलिस की तरह ‘कोरोना योद्धा’ के रूप में पहचान दी जानी चाहिए। 

6 महीने के EMI मोरेटोरियम पर विचार:

  • श्रीमान वाधवा के मुताबिक, पैसे की तंगी से जूझ रहे ट्रक मालिकों के लिए मोरेटोरियम निश्चित ही बेहद मददगार है। एक छोटा ट्रक मालिक भी हर महीने किश्तों में लाखों का भुगतान करता है।
  • हालाकिं मोरेटोरियम अवधि के दौरान मूल रकम पर तयशुदा दर से ब्याज इकट्ठा होता रहेगा जिस से बाद में EMI की राशि बढ़ जाएगी – यह एक बड़ा चिंता का विषय है।
  • अगर सरकार 6 महीने की मोरेटोरियम अवधि के दौरान ब्याज दर को कम कर के इसे फ्लैट और उचित दर में बदल देती तो ट्रक मालिकों को इस से काफी राहत मिलती।

विभिन्न मसलों पर ट्रक मालिकों को सलाह:

छोटे ट्रक मालिक कैसे अपने व्यापार को बढ़ा सकते हैं और इस महामारी में स्वयं को कैसे रिस्क से बचा सकते हैं इसे ले कर श्रीमान वाधवा ने छोटे ट्रक मालिकों को कुछ अहम सलाह दी:

  • EMI मोरेटोरियम में ट्रक मालिक अपने संसाधनों का अधिकतम प्रयोग करें ताकि आने वाले महीनों में EMI की बढ़ी हुई राशि के भुगतान के लिए उनके पास पर्याप्त मात्रा में पैसा आ जाए। ऐसे समय में ट्रांसिट टाइम पर नज़र रखना और डिमांड आकर्षित करने के लिए बेहतर बने रहना अहम है।
  • डिजिटलाइजेशन की मदद से फिक्स खर्चों को वेरिएबल खर्चों में तब्दील करने की कोशिश करें। ट्रांसपोर्ट एवं बिजली की लागत बचाने के लिए घर से काम करने की आदत डालें। खर्चे कम करने पर फ़ोकस करना अहम साबित हो सकता है।
  • अपने मुख्य धंधे, जो कि सामान को ट्रांसपोर्ट करना है, पर फ़ोकस बनाये रखें। सहायक धंधों की वजह से ध्यान न भटकने दें। जैसे तेजस लोजिस्टिक्स ने अपने टायर और AMC सेग्मेंट्स पूरी तरह से किसी अन्य कंपनी के जिम्मे कर रखे हैं। इस से ट्रक मालिकों को बेहतर एफिशिएंसी (कुशलता) में मदद मिलेगी।
  • छोटे ट्रक मालिक कोशिश करें कि अपने ट्रक किसी बड़ी कंपनी के साथ जोड़ दें। कई बड़ी कंपनियां कई तरह की नई योजनाओं की शुरुआत कर रही हैं जैसे दोनों तरफ के सफर के लिए लोड प्रदान करना, मरम्मत की जिम्मेदारी लेना आदि। बड़ी कम्पनी के साथ जुड़ने से यह सुनिश्चित हो जाएगा कि आपका ट्रक हमेशा चलता रहेगा।
  • अगर आप नया ट्रक लेने के बारे में सोच रहे हैं तो आप सेकंड हैंड ट्रक लेने के विकल्पों की ओर निगाह मार सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि एक BS6 ट्रक पर अतिरिक्त खर्चा 3-4 लाख रुपए तक आएगा। कोरोना के बाद डिमांड की वापसी में भी वक़्त लग सकता है।

कोरोना के दौरान ट्रक मालिक अपनी टीम की सेनीटाईजेशन और सुरक्षा कैसे सुनिश्चित कर सकते हैं?

  • सारथी को इस बारे में अच्छे से शिक्षित करना महत्वपूर्ण है। अगर हम उन्हें सामाजिक दूरी एवं सेनीटाईजेशन निर्देशों का पालन करने के बारे में शिक्षित करें, तो वे जरूर समझेंगें।
  • अपनी टीम को आरोग्य सेतु एप्प डाउनलोड करने के लिए कहें।
  • आजकल ट्रक रिपेयर की दुकानें एवं OEMs ये सुनिश्चित कर रहे हैं कि मरम्मत के काम से पहले हर एक ट्रक सेनीटाइज़ हो। डिपो पर ट्रक के आगमन पर आप भी यह सुनिश्चित कर सकते हैं।
  • यह सुनिश्चित करें कि ट्रक सारथी आपके ट्रक में सवारियों को नहीं ले कर जा रहे हैं। इस से वायरस के फैलने का खतरा कम होगा।
  • हर एक ट्रक में हर समय सेनिटाइजर की एक बोतल मौजूद होनी चाहिए। हर एक सारथी को एक मास्क दिया जाना चाहिए।

श्रीमान वाधवा ने हाल में सरकार द्वारा घोषित राहत पैकेज पर भी अपने विचार रखे। साथ ही उन्होंने ऑनलाइन बातचीत में शामिल दर्शकों के कुछ सवालों का जवाब भी दिया।

हमारी ऑनलाइन चर्चा में शामिल होने के लिए हम श्रीमान वाधवा का शुक्रिया अदा करते हैं। हम उम्मीद करते हैं कि ऊपर लिखे निष्कर्ष ट्रांसपोर्ट समुदाय के लिए मददगार साबित होंगे।

अपने सवाल व्हील्सआई से पूछिए

यदि आपके पास कोई भी सवाल है तो आज ही संपर्क करें
Call: +91 99900 33455
Email: care@wheelseye.com

Have a question related to truck business? / क्या आपके पास कोई ट्रक व्यवसाय से संबंधित प्रश्न है?
Ask / प्रश्न पूछे

प्रातिक्रिया दे

Pay only Rs 3400 (60% Off) for GPS. Offer available for a limited time*

X